NiQuest
Sampling every day life

नवाज़िशें

  • सोच रहा हूँ कल परसों से कि क्या असर है तेरा,
  • आँखों के इशारों से तूने जीना सीखा दिया है,
  • किस्मत से आयी हो मेरी ज़िंदगी में इस तरह,
  • ज़िंदगी हाथ लग गयी हो जैसे।


  • कहा हमसे किसी ने कि कितने दूर हैं तुम्हारे सनम,
  • तो हमनें कहा कि इससे प्यारी हमारी कोई मजबूरी नहीं,
  • दिल से उनको ऐसे जोड़ रखा है कि नज़रों से दूर होना कोई दूरी नहीं।


  • तेरे रुखसार से परदे हटा दूँ सारे दर्द के,
  • पर आप उसे भी हमारी खता ही बोलोगे जो आपको बेनकाब करदें।


  • लोग कहतें हैं कि हिसाब अच्छा रखतें हैं हम,
  • रख रहें हैं तेरी हर खता का हिसाब भी हम,
  • पर कम्भखत दिल इतना नादान है हमारा कि तुमको बाँहों में भर लिया तो सारा हिसाब भूल जाऊंगा।